Tech App, Education, WhatsApp,Internet, Banking, Soical App

Breaking

Saturday, 21 March 2020

5G kya hai yah kis tarh se hamare lie usefull hai

5G kya hai yah kis tarh se hamare lie usefull hai

नमस्कार दोस्तों,

आज के इस आर्टिकल मे हम technology से संबंधित बात करने वाले है। इस आर्टिकल का नाम 5G kya hai yah kis tarh se hamare lie usefull hai
हम जनेगे की 5G क्या है?  5G को हम कीस तरह से अपने use मे ल सकते है?  5G से हमे क्या फाइडे और नुकसान है?  5G से जुड़ी और भी बहुत से क्षेत्र के बारे मे हम बात कारेगे।  5G से जुड़ी जानकारी प्राप्त करने के लिए इस आर्टिकल को पूरा पढे...

5G kya hai yah kis tarh se hamare lie usefull hai

5G kya hai?

5G एक ऐसी दुनिया जहा पर सब कुछ बहुत ही आसान, स्मार्ट और तेज होगा। इलेक्ट्रॉनिक devices आपस मे communicate कर पाएगे। जो गड़िया रोड पर चल रही है जैसे की cars वो सब आपस मे बात कर पाएगी। इसके साथ ही आज के date मे जिन कामों को करने मे घंटों लगते है उन्हे 5G की मदद से कुछ ही seconds मे कर लिया जाएगा। यह अपनी speed के साथ हमारी पूरी-की-पूरी जिंदगी को ही change कर देगा। आपके फोन मे उपेर नेटवर्क के पास मे 3G, 4G या फिर VoltE लिखा हुआ दिखाई देता है। यह पर G का मतलब generation होता है। नम्बर मे जितना बड़ा G होगा उतनी ही अधिक आपके नेटवर्क की speed होगी।


5G ke benifit kya hai?

5G के आने से सबसे अधिक फाइदा मेडिकल मे होगा क्योंकि जब मशीन 5G से connect होगी और real time मे काम करेगी तो expert serson रेमोट sersories को perform कर पाएगे। मतलब doctor दुनिया के एक कोने मे होगा और मरीज दूसरे किसी भी कोने मे हो, robotic आर्म  के वजह से उन मरीजों का इलाज करना संभव हो जाएगा। आप real time मे ही online gaming कर पाएगे और VR के जरिए एक चीज को expereience कर परगे।

ये सारी चीजे आखिर कैसे संभव हो सकी है?


यह सब कुछ संभव हुआ है, इसकी स्पीड की वजह है मिलीमीटर wave ये waves एक ब्रांड है रेडियो frequency की। आपके स्मार्ट फोन और दूसरे इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस रेडियो frequency स्पेक्ट्रमप पर specific frequency का इस्तेमाल करते है और ये frequency 6 गीगा हार्ट के अंदर ही होती है। लेकिन जब ज्यादा स्मार्ट फोन एक साथ connected होते है तो ये frequency बट जाती है और आपको limited data ही provide कर पता है आपका service provider
इसी के वजह से जब ज्यादा- से- ज्यादा लोग इंटरनेट का उसे कर रहे होते है, तब इसकी speed कम हो जाती है। यही कारण है की जब रात मे इंटरनेट के users कम हो जाते है तो इसकी speed बड़ जाती है।

ये problem केवल मिलीमीटर waves के जरिए solve की जा सकती है। क्योंकि मिलीमीटर wave 6 गीगा हार्ट की जगह पर 30-300  गीगा हार्ट की  frequency पर कम कर सकती है।

अभी तक केवल रेडार्ट सिस्टम instelight मिलीमीटर waves का इस्तेमाल करते है।  4G पर 500*500/km मे around 1Million device connect हो सकते है।
लेकिन- लेकिन- लेकिन  5G मे मे आप 1*1/km पर ही 1Million device को connect कर सकते है।


5G ke nuksan kya hai?

मिलीमीटर waves ज्यादा दूर तक travell नही कर सकती है। अगर कोई opstical इनके बीच मे या जाए तो ये सही से connectivity भी नही कर पाती है। for example- यदि आपके घर से 500 कं की दूरी पर 5G का नेटवर्क बॉक्स लगा हुआ है, तो आपको 5G की connection नही मिल पाएगी। क्योंकि मिलीमीटर waves की रेंज ज्यादा दूर तक त्travall नही कर पाएगी। यह around 300-400 km ही travall कर सकती है।  खराब मौसम मे भी यह सही तरह से work नही कर पाएगी। 5G को हर व्यक्ति तक पहुचने के लिए और connection के लिए एक छोटे से area मे और बिल्डिंग मे भी कई सारे small sales लगानी होगी।

मिलीमीटर waves को कीस तरह से आप तक पहुचाया जाए इस पर अभी कम चल रहा है। इसमे अभी थोड़ा time लगने वाला है। 

No comments:

Post a comment